25 Very Sad pareshan shayari

25 Very Sad pareshan shayari
pareshan shayari
pareshan shayari

1- फिर आखिर मुझे परेशानी क्या हो, जो तू पूछ ले एक दफा परेशान क्यों हो।

जिंदगी से परेशान शायरी

2- परेशानियां को बिलकुल परे रख कर, चल दौड़ इस ज़िन्दगी के अग्निपथ पर।

अपनों से दुखी शायरी

3- परेशानियों का जब परवान चढ़ा, कौन अपना कौन पराया पता पड़ा।

जिंदगी से परेशान स्टेटस
pareshan shayari

4- कोई समय से परेशान कोई समाज से परेशान है, कोई अपने कल से परेशान कोई अपने आज से परेशान है।

घर से दुखी शायरी

5- बोलने वालों की बोलती बंद कर बेज़ुबान मत कर, ऐ ज़िन्दगी अब इतना भी परेशान मत कर।

6- यूँ ही नहीं मैं चुप-चुप सा रहता हूँ, ये ज़िन्दगी ने मेरी बोलती बंद कर रखी है।

7- अपनी लगन से हर परेशानी को रास्ते से हटा दे, तू यहाँ बस जीने नहीं जीतने आया है ये सारी दुनिया को बता दे।

8- मुस्कुराते हैं झूठा बहुत हम बहार बड़े शान से, बस हम और हमारा दिल ही जानते हैं अंदर से हैं हम कितने परेशान से।

9- एक अँधेरा कमरा और उसमे बैठा वीरान मैं, हो रही है बारिश बहुत लगता है आसमान भी परेशान है।

pareshan shayari 2 lines

10- आज बुरा है तो क्या बेहतर तेरा कल होगा, हर परेशानियां ख़त्म हो जाएगी हर मुसीबत का तेरी हल होगा।

11- परेशान दिल को और परेशान मत कर, इश्क़ है तो इश्क़ कर सनम परेशान मत कर।

12- चले गए ना तुम भी दूर नज़दीक आ कर, इतना दुःख देकर इतना दिल दुखा कर।

13- परेशान कर पूछते हैं परेशानी क्या है, ना जाने ऐसे लोगो की कहानी क्या है।

14- अब तक तो बस यही निशाँ यही निशानियां दिखी है, मेरी हाथों की लकीरों में बस परेशानियां लिखी है।

dukhi shayari 2 line
dukhi shayari 2 line

15- तेरे मेरे रिश्ते का आखिर कल क्या होगा, ये जो परेशान हाल-ऐ-दिल है इसका हल क्या होगा।

16- जो तो हाल पूछ ले हाल-ऐ-दिल का, हर मसला हल हो जाए हाल-ऐ-दिल का।

17- खुद की ज़िन्दगी इतनी बेस्वाद हो गई की दूसरों के मसलों में मसाले ढूंढते हैं लोग।

18- घूमा करते थे जो क़दम मोहोब्बत की गलियों में बड़े शान से, आज बैठे है आँखों में आंसू लिए परेशान से।

19- सोचा नहीं था ज़िन्दगी में ऐसे भी फ़साने होंगे, रोना भी आएगा और आंसू भी छुपाने होंगे।

dukhi shayari

20- लोग दूर से देख कर सोचते है मैं बहुत खुश रहता हूँ, अब कोई क़रीब आकर हाल पूछे तो पता लगे कितना परेशान हूँ मैं।

21- दोस्त जो खुशियों में संग खड़े हो जाए और परेशानियां आते ही परे हो जाए, ऐसे दोस्तों से अच्छा यही है की आप दोस्ती के मैदान से बाहर खड़े हो जाए।

22- कुछ परेशान मैं खुद से हूँ, कुछ तेरी यादों से हूँ कुछ तुझ से हूँ।

23- जो हर हाल में हर हाल पुछा करते थे, आज कुछ पूछो उनसे तो परेशान हो जाते हैं।

24- तुमने कहा था हर शाम हाल पूछोगे हमारा, तुम बदल गए हो या तुम्हारे शहर में शाम नहीं होती।

25- परेशानी जितनी भी हो अपनों से कभी सलाह मत माँगना, जख्म पर लगाने को सिर्फ नमक मिलेगा बेहतर है की दवा मत माँगना।

इन्हे भी पढ़े :-

Leave a Reply