Best Jarurat shayari

You are currently viewing Best Jarurat shayari
Jarurat shayari
Jarurat shayari in hindi

1- एक सबक लाया हूँ सीख कर ज़िन्दगी की किताब से, लोग रिश्ते बदलते हैं ज़रुरत के हिसाब से।

लोग भूल जाते है शायरी

2- चले तो गए तुम मुझे गैर ज़रूरी मान कर, मगर ज़रुरत पड़े कभी तो लौट आना सनम।

खास व्यक्ति के लिए शायरी

3- आवाज़ ना उठे आगे जिसके तुम वो हुकूमत हो, तुम ज़रूरी नहीं मेरे लिए तुम ज़रुरत हो।

jarurat shayari hindi me
jarurat shayari hindi me

4- लोग तभी तक तुम्हे ज़रूरी मानेंगे जब तक उन्हें तुम्हारी ज़रुरत है।

समझने पर शायरी

5- एक रोज़ आ जाएगी लौटकर तू, इस आस में हर रोज़ काट रहा हूँ मैं। ​

6- क्या ज़माना आ गया है अगर बात ज़रुरत की हो तो हर शक़्स की जुबां मीठी हो जाती है।

7- ज़रुरत-ज़रुरत की बात है, आज मेरे तो कल कसी और के साथ है।

8- अब ज़रूरी हो गया है हर हाल में मुस्कुराते रहना, क्यूंकि बुरे हाल में लोग सवाल बहुत पूछते हैं।

9- जिस्म नज़दीक आए रूह में दूरी रह गई, ज़रुरत पूरी हो गई मोहोब्बत अधूरी रह गई।

zarurat shayari

10- किसी की याद में जलकर महसूस हुआ मुझे हर आग पानी की मोहताज नहो होती।

11- ज़रुरत आती है तो आते हैं मिलने, अब दोस्ती भी दिमाग से होती है।

12- हाल ठीक बता सकूं फिलहाल ऐसी सूरत नहीं, ज़िन्दगी ख़त्म होने को है मगर कम्बख्त ज़रूरत नहीं।

13- चाहा जिसे ज़रुरत से ज्यादा, ज़रुरत से ज्यादा जिसका ख्याल किया, समझदार था वो भी ज़रुरत से ज्यादा, ज़रुरत से ज्यादा उसने मेरा इस्तेमाल किया।

14- बदल जाते हैं वो भी वक़्त की तरह, ज़रुरत से ज्यादा जिन्हे वक़्त दिया जाए।

zarurat shayari 2 lines

15- दूर जाना तुझसे सही तो नहीं था मगर ज़रूरी था शायद।

16- पहली मोहोब्बत लोगों को एक बात सीखा देती है, की दूसरी अगर करना तो हद में रहकर।

17- चालाक था वो ज़रुरत से ज्यादा मैं ज़रुरत से ज्यादा मासूम था, वो मिल रहा था मतलब के लिए मैं बेमतलब उसकी मोहोब्बत में गुम था।

18- ये कायदा दुनिया का मुझे समझ नहीं आता, क्या तुम्हे सिवाय मतलब के कुछ नज़र नहीं आता।

19- यूँ ही नहीं निगाहें उनकी हमारे रास्ते की और पड़ी होंगी, ज़रूर उन्हें हमारी कुछ ज़रुरत पड़ी होगी।

20- उनसे मिलने की अब ज़रुरत से महसूस होती है, कुछ दिन का सफर काफी लम्बा लगा रहा है।

इन्हे भी पढ़े :-

21- मैं हो चूका हूँ इस क़दर सरे-आम तुम्हारा, कोई ज़रुरत पूछे तो लूँ नाम तुम्हारा।

22- ज़रुरत हो तभी जलाओ अपने आप को, उजालों में चिरागों की अहमियत नहीं होती।

23- ज़रूर रहे जो संग तुम्हारे मैं तुम्हारी वो ज़रुरत बनना चाहता हूँ।

24- मतलब खींच लाइ है उन्हें दरवाज़े तक मेरे, मेरे आंसुओं का पत्थर दिल पर कोई असर नहीं हुआ है।

25- ज़रूरतें का तो पेट भर जाएगा चाँद रुपयों में ये मन नहीं भरता इसका क्या करें।

Leave a Reply