29+ Sad Majboori Shayari – (लाचारी पर शायरी)

29+ Sad Majboori Shayari – (लाचारी पर शायरी)
Majboori Shayari
Majboori Shayari

1- हरा सकती है, डरा सकती है, वो मजबूरी है वो इंसान से कुछ भी करा सकती है।

majboori shayari for girlfriend

2- पढ़ने की उम्र में उस बच्चे ने मजदूरी की थी, मजबूरी ही थी की उसके नन्हे पैरों ने इतना बड़ा क़दम उठा लिया।

Majboori Shayari in hindi
Majboori Shayari in hindi

3- ऐसी भी क्या मजबूरी आ गई जनाब की आपने हमारी चाहत का कर्ज़ा धोका दे कर चुकाया।

हालात से मजबूर शायरी

4- किसी गिरे इंसान को उठाने आएं ना आए ये ज़माने वाले मजबूरी में पड़े इंसान का फायदा उठाने ज़रूर आएँगे।

वक्त और हालात शायरी
वक्त और हालात शायरी

5- हाथ पैर वाले कमा रहे है शरीर बेच कर, ऐसी भी क्या मजबूरी है जनाब जो ज़मीन खरीद रहे हो ज़मीर बेच कर।

2 line majboori shayari

6- ये मोहोब्बत है मजबूरी नहीं इसे ज़रा दिल से कीजिएगा।

मेरी मजबूरी शायरी
meri Majboori Shayari

7- बहाना कोई तो ऐ ज़िंदगी दे कि जीने के लिए मैं भी मजबूर हो जाऊँ।

दोस्ती की मजबूरी शायरी

8- सब गुलाम है अपने हालातों के यहाँ, बेचैन आँखे सोती नहीं रातों में यहाँ।

majboori shayari dp

9- मौज में फिरते थे कभी हम भी ज़माने में, फिर क्या हम भी लग गए कमाने में।

मज़बूरी स्टेटस
Majboori Shayari

10- बेबसी किसे कहते हैं ये पूछो उस परिंदे से जिसका पिंजरा रखा भी तो खुले आसमान के तले।

11- कौन कहता है वक़्त किसी का नहीं होता, मैने मेरे ही वक़्त को मुझे बर्बाद करते देखा है।

12- गरीब अक्सर तबयत का बहाना बनाकर मजबूरियाँ छुपा जाते हैं।

13- लड़को की ज़िन्दगी आसान कहाँ साहब ख्वाहिशे मर जाती है उनकी ज़िम्मेदारियों के नीचे आ कर।

14- दर्द में भी वो गरीब काम कर रहा था, क्या करें साहब हालातों का मारा था।

सितम स्टेटस

15- फायदा नहीं उन आँखों का कोई जो अपने फायदे के आगे किसी की मजबूरी ना देख सके।

इन्हे भी पढ़े :-

16- मजबूरी जैसी भी हो बताना मत, यहाँ सभी के पास दिमाग है दिल से कोई नहीं सुनेगा।

17- अक्सर मज़बूरी में इंसान वो काम भी करने करने को तैयार हो जाता हैं, जिसके बारे में उसने पहले कभी सोचा तक भी नहीं होता है।

18- जब इंसान किसी रिश्ते को मज़बूरी में निभाने लग जाता है, तब उसके लिए वो रिश्ता सिर्फ सिर दर्द बनकर रह जाता है।

19- जब बुरा वक़्त का साया किसी शक्श पर पड़ता है, तब उसकी मज़बूरी का फायदा उठाने के लिए उससे हर शक्श मिलता है।

लाचारी शायरी
लाचारी शायरी

20- ना जाने उसकी मज़बूरी रही होगी, बड़ी बेरहमी से दिल तोड़ा है उसने मेरा।

21- ऐ खुदा मज़बूरी चाहे कोई भी हो पर तुझसे गुजारिश की उसके और मेरे बीच कभी दूरी ना हो।

22- इंसान मजबूर होता नहीं हैं बल्कि परिस्तिथियाँ उसे मजबूर बनाती है, इंसान पैसो के पीछे भागना नहीं चाहता पर जरूरते उसे दौड़ाती है।

23- होठों की भी क्या मजबूरी रहती है, सब कुछ कह कर भी बात अधूरी रहती है।

24- ना जाने मज़बूरी भी इंसान से क्या-क्या करवाती है, अपनों को भी धोखा देने के लिए इंसान को मजबूर बना देती है।

25- ना चाहते हुए भी पसंददिता चीज को खरीदने से नजरअंदाज करना पड़ता हैं, क्या करे मज़बूरी ही ऐसी हैं एक पैसा खर्च करने में भी हज़ार बार सोचना पड़ता है।

26- मुस्कुराते हुए चेहरे पर निराशा आने लगती हैं, ये मजबूरियां इंसान की जिंदगी में सिर्फ दुखो का भार लाती है।

27- हर दिल की कोई न कोई मजबूरी होती है, हालात ले आते हैं यह जो दिलों में दूरी होती है।

28- अगर हमसे महोब्बत थी ही नहीं तो क्यों निभाते जा रहे थे, अगर हमसे महोब्बत निभाना कोई मज़बूरी थी तो हमें पहले ही बता देते।

29- जो काम पसंद नहीं हैं उसे ना चाहकर भी करना पड़ता है, वो मजबूरियां ही होती हैं साहब जिनसे हमें लड़ना पड़ता है।

30- हम तुम में कल दूरी भी हो सकती है वज्ह कोई मजबूरी भी हो सकती है। – बेदिल हैदरी

Leave a Reply