30+ Best Kafan Shayari in Hindi – (लाश शायरी)

You are currently viewing 30+ Best Kafan Shayari in Hindi – (लाश शायरी)
kafan shayari
kafan shayari in hindi

1- अब मौत भी मुझे उसी दिन आएगी, जिस दिन तू मेरे लिए मौत का कफ़न लाएगी।

kafan shayari image

2- मौत की एक खास बात हैं की जब वो आती है तो अपने कफ़न में वो इंसान को खली हाथ ले जाती है।

maut kafan shayari

3- जब इंसान की मौत आती हैं तब उसके ना चाहने वालो की तदाद भी उसके उप्पर खफन उड़ाने आती है।

kafan status

4- कफ़न में दफना रखी हैं मैंने अपनी कुछ नाराजगियाँ अब वो तब ही सामने आएँगी जब मौत मेरे गले आएगी।

kafan quotes
Kafan Shayari

5- दिल अक्सर मुझे कहता है की सोजा किसी कब्रिस्तान में कफ़न ओढ़कर, में उसे बस यही कहता हूँ की जिन्दा लाश को जरुरत नहीं होती किसी कफ़न को ओढ़कर सोने की।

6- तुमसे बस एक ही गुजारिश है मेरी की जब मिलने आओ तो हमारे लिए एक कफ़न भी लेते आना।

7- कफ़न बांध कर रोज चलता हूँ मैं अपनी मौत को ढूंढने, पर जिंदगी हर रोज कहती हैं की अभी तो तुझे और तड़पना हैं इस जालिम दुनिया के आगे।

8- यहाँ गरीब को मरने की इसलिए भी जल्दी है साहब कहीं जिन्दगी की कशमकश में कफ़न महँगा ना हो जाए।

9- खाली हाथ आये थे, खाली हाथ जायेंगे, एक दिन हम भी कफ़न में लिपटकर अल्लाह के पास जायेंगे।

marne ke upar shayari

10- ऐ मौत ज़रा पहले आना गरीब के घर कफ़न का खर्च दवाओं में निकल जाता है।

11- कफ़न ओढ़ लिया है शरीर पे जीते जी अब तो ऐ ज़िन्दगी जब जलाना हो मुझे तो आकर ले जाना।

12- लिबास तय करता है बसर की हैसियत कफ़न ओढ़ लो तो दुनिया कंधो पर उठाती है।

13- जिन पर लुटा चुका था मैं दुनिया की दौलतें उन वारिसो नें मुझे कफ़न भी नाप कर दिया।

14- ना जाने कुछ लोगो की ऐसी भी क्या नाराजगी होती है उसकी मौत पर कफ़न डालने पर भी उन्हें बड़ी परेशानी होती है।

kafan shayari dp

15- जब से इश्क़ में धोका खाये भटक रहे है, तब से हम बस कफ़न ढूंढ़ने की तलाश में लगे हुए है।

16- पहचान कफ़न से नहीं होती है लाश के पीछे काफिला बयां कर देता है हस्ती को।

17- दर्द की सारी सिलबटों पर कफन डाल आयी हूँ हाँ तन्ह़ा ही किस्ती को दरिया से निकाल लाई हूँ।

18- चूम कर कफ़न में लपटे मेरे चेहरे को उसने तड़प के कहा नए कपड़े क्या पहन लिए, हमें देखते भी नहीं।

19- मेरे दिल के कफ़न में लिपटी तेरी यादें है ये आख़िरत की निशानी है इसकी कब्र यही है।

मेरी लाश शायरी

20- रूख से उड़ रहा था कफन बार बार शायद तेरे दीदार की हसरत थी मरने के बाद भी।

इन्हे भी पढ़े :-

21- कफ़न में दफन हैं… लेकिन फिर भी कुछ तुच्छ ख्वाहिशें दम भर रही हैं।

22- जब से पता चला है, की मरने का नाम है ‘ज़िंदगी’ तब से, कफ़न बांधे क़ातिल को ढूढ़ते हैं।

23- कफ़न हरदम मेरा तैयार तुम रखना दौर ऐसा है पता नहीं कब मौत आ जाए।

24- आओ चलो अपना अपना कफन खरीदकर रख लिया जाए वक़्त कह रहा है अपनो पर भरोसा अब और कम किया जाए।

25- कितना दर्द है दिल में दिखाया नहीं जाता किसी की बर्बादी का किस्सा सुनाया नहीं जाता एक बार जी भर के देख लो इस चहरे को क्यूंकि बार बार कफ़न उठाया नहीं जाता।

26- इजाजत ना मिली पास आने की तेरी दुनियां से मैं गुजर जाऊंगा हसरत दिल की दिल में रहेगी मैं दो गज कफन में सिमट जाऊगा।

27- दर्द से अब हम खेलना सीख गए हम बेवफाई के साथ जीना सीख गए क्या बताएं किस कदर दिल टूटा है मेरा मौत से पहले, कफ़न ओढ़ कर सोना सीख गए।

28- कफ़न का सहरा बांधे हुए चल रहा हूँ, में अपनी मौत की तलाश में भटक रहा हूँ।

29- इन हसीनो से तो कफ़न अच्छा है जो मरते दम तक साथ जाता है ये तो जिंदा लोगो से मुह मोड़ लेती हैं कफ़न तो मुर्दों से भी लिपट जाता है।

30- दुनिया बहुत मतलबी है साथ कोई क्यों देगा मुफ्त का यहाँ कफ़न नहीं मिलता तो बिना गम के प्यार कौन देगा।

Leave a Reply