29+ Jism Shayari – (जिस्म की आग शायरी)

You are currently viewing 29+ Jism Shayari – (जिस्म की आग शायरी)
Jism Shayari
Jism Shayari

1- दिल देख कर मोहोब्बत करने का रिवाज़ अब ख़त्म हो चुका है अब मोहोब्बत से पहले जिस्म देखा जाता है।

बॉडी शायरी

2- जिस्म तो सूरज है साहब वक़्त के साथ ढल जाएगा, सब रह जाएगा धरा का धरा तेरा कर्म ही तेरे संग जाएगा।

Jism Shayari in hindi
Jism Shayari in hindi

3- जिस्म तो बाज़ारों में बिकता है, दिल से की गई मोहोब्बत का अंदाज़ ही अलग दिखता है।

Zameen Shayari

4- जिस्म से रूह निकलना अब आसान लगता है तुझे दिल से निकालना अब मेरे बस में नहीं।

na hawas tere jism ki

5- तेरे जिस्म से नहीं तेरे दिल से मोहोब्बत करते हैं हम, जिस महफ़िल में तू हर उस महफ़िल से मोहोब्बत करते हैं हम।

जिस्म शायरी pic

6- यहाँ सब जिस्म के भूखे हैं साहब मोहोब्बत की प्यास यहाँ किसी को नहीं दिखती।

जिस्म की आग शायरी
जिस्म की आग शायरी

7- आज कल की मोहोब्बत social मीडिया पर शुरू होती है और बिस्तर पर जा कर ख़त्म हो जाती है।

jism sad shayari

8- अजीब सी बेवकूफी देखी है लोगों के अंदर भी, टूटा है दिल जनाब का पर संवारते वो जिस्म को है।

jism quotes
jism quotes in hindi

9- जिस्म के घाव भर जाते हैं पर ये दिल के घाव हैं ये क़यामत आने तक कहर ढाते हैं।

jism status

10- मोहोब्बत की आड़ में जिस्म का सौदा हुआ, इश्क़ ही बदनाम हुआ इश्क़ को ही रौंदा गया।

11- ऐ जिस्म के दीवानों कभी रूह भी देखना, चेहरे से पहले कभी दिल भी देखना।

12- कसम खुदा की गुल खिलने लगेंगे जब जिस्म से पहले दिल मिलने लगेंगे।

13- जिस्म तो मिल जाता है चंद पैसों में साहब मोहोब्बत खरीद सको हमारी तो मानें।

14- जिस्म की चका-चौंध में सब अंधे हैं जहाँ किसी को कम्बख्त इश्क़ नज़र ही नहीं आता।

jismani pyar shayari
jismani pyar shayari

15- जिस्म तो कई छू लेते है भीड़ का फायदा उठा कर बाज़ारों में, कोई रूह छू नहीं पाता फिर भी ना जाने क्यों हज़ारों में।

16- जिस्म की मोहोब्बत चार पल चलती है, याद रखा जाता है सदियों तक रूह की मोहोब्बत को।

17- प्यार में तब तब धोका खाएंगे लोग, जब-जब दिल को छोड़ कर जिस्म को चाहेंगे लोग।

18- वादे वफ़ा के चाहत जिस्म की, ये मोहोब्बत आज के ज़माने की ज़रा अलग किस्म की।

19- जिस्म नहीं जज़्बात भी देखना, सूरत नहीं दिल भी देखना।

zism
Jism Shayari

20- दर्द गूंज रहा दिल में शहनाई की तरह, जिस्म से मौत की ये सगाई तो नहीं, अब अंधेरा मिटेगा कैसे.. तुम बोलो तूने मेरे घर में शम्मा जलाई तो नहीं।

इन्हे भी पढ़े :-

21- हवस इंसान की साए की तरह होती है वो कभी एक शरीर तक नहीं टिकती।

22- कुछ पल बिस्तर पर बिता कर, मोहोब्बत समझ रहे थे वो हवस को मिटा कर।

23- अगर जिस्म से लिपटना मोहोब्बत होती तो अजगर से बड़ा कोई आशिक़ ना होता।

24- झूठ कहते है ये प्यार है जनाब, सही मायनों में ये जिस्म का कारोबार है जनाब।

25- जिस्म की मोहोब्बत थी तो मांग लेते ये सच्ची मोहोब्बत का नाटक कर जान लेने की क्या ज़रुरत थी।

26- जो मेरे जिस्म की चादर बना रहा बरसो तक ना जाने क्यों वो आज मुझे बेलिबास छोड़ गया।

27- ये भी अलग क़िस्म की मोहोब्बत है, यहाँ दिल नाकाम है ये जिस्म की मोहोब्बत है।

28- आँखे मोहोब्बत की अब दिल नहीं देखती जिस्म देखती है।

29- गूँज समझ लिया तुमने एक आहट को, मोहोब्बत समझ लिया तुमने जिस्म की चाहत को।

30- जिस्म सवांरने वाले इन नादान आशिक़ों को तो देखो ये दिल साफ़ रखना ही भूल गए।

Leave a Reply