Mujhe Koi Fark Nahi Padta Status

You are currently viewing Mujhe Koi Fark Nahi Padta Status
Mujhe Koi Fark Nahi Padta Status
Mujhe Koi Fark Nahi Padta Status in hindi

1- कोई खास फर्क नहीं पड़ता अब ख़्वाहिशें अधूरी रहने पर बहुत करीब से कुछ सपनों को टूटते हुये देखा है मैंने।

selfish mujhe koi fark nahi padta status

2- अब फरक नहीं पड़ता किसी के रूठ जाने से, जी तो हम पहले से ही नहीं रहे, अब दर भी नहीं लगता साँसे छूट जाने से।

ego mujhe koi fark nahi padta status

3- गज़ब के चोर हो कान्हा चोरी भी करते हो और दिलो पर राज़ भी।

ab mujhe koi fark nahi padta status
ab mujhe koi fark nahi padta status

4- फ़र्क़ को भी अब फ़र्क़ नहीं पड़ता, हकीकत दूर की बात है, यह दिल तेरा ज़िक्र अब ख्वाबों में भी नहीं करता।

attitude mujhe koi fark nahi padta status

5- एक वक्त था कि तुझसे बेइंतहां प्यार करता था अब तो तू खुद मोहब्बत बन चली आए तो मुझे फर्क नहीं पड़ता।

6- उस दिन को भुला दूंगा तेरी यादों को जला दूंगा फर्क पड़ा अगर तेरे जाने का मुझ पर तो खुद को मिटा दूंगा।

7- अब फरक नहीं पड़ता किसी के रूठ जाने से, जी तो हम पहले से ही नहीं रहे, अब दर भी नहीं लगता साँसे छूट जाने से।

8- कुछ लोग पसंद करने लगे हैं अल्फाज मेरे मतलब मोहब्बत में बरबाद और भी हुए हैं।

9- क्या कहा लोग नफरत करते है मुझसे, करो भाई करो, मुझे घंटा फ़र्क़ नहीं पड़ता।

mujhe koi fark nahi padta status dp

10- एक वक़्त था जब किसी को खुश देखने की जद्दो जेहद करता था, अब तो सारा ज़माना खफा हो जाये मुझसे तब भी फ़र्क़ नहीं पड़ता।

11- फ़र्क़ नहीं पड़ता मुझे तेरी ज़िन्दगी में किसी के होने ना से, दर लगता है तो बस तेरी ज़िन्दगी में अपनी जगह खोने से, वरना फ़र्क़ नहीं मुझे तेरा मेरे या उनके साथ होने से।

12- अब तो साली ज़िन्दगी भी ऐसी हो गई है की कोई लड़की स्माइल भी दे तो घंटा फ़र्क़ नहीं पड़ता।

13- दुआओं में सिर्फ तुम्हे माँगा करते थे मिन्नतें सिर्फ तुझे पाने की किया करते थे पर अब डर नहीं तुझे खोने का फर्क पड़ता नहीं तेरा पास होने का या ना होने का।

14- ख्वाब टूटे है उसके, अब उसे होश कहाँ, फ़र्क़ नहीं पड़ता उसे, कुछ भी कहे यह जहाँ, खामोश रहना अब अदा हो गई उसकी, अब मतलब नहीं उसे कौन यहाँ कौन कहा।

sabak status

15- जब भी उनकी गली से गुज़रते हैं, मेरी आँखें एक दस्तक दे देती हैं, दुःख ये नहीं वो दरवाजा बंद कर देते हैं, ख़ुशी ये है कि वो मुझे पहचान लेते हैं।

16- याद नहीं करोगे तो भूल भी ना सकोगे, मेरा ख्याल जहां से मीठा भी ना सकोगे, एक बार जो तुम मेरे गम से मिलोगे, तो सारी उमर मस्कुरा न सकोगे।

17- उसने हमसे पूछा तेरी रजा क्या है, क्यों करते हो पसंद वजह क्या है, कोई बताए उसे मेरी खता क्या है, जो वजह से करे पसंद किसी को, उसमें मजा क्या है।

18- अब तो अरसा बीत गया है वीजीट किए हुए तेरी पुरानी प्रोफाईल को जा-जा अब तू चाहे 24 घण्टे ऑन्लाइन रहले अपने नये आईडी पर, मुझे फर्क नहीं पड़ता

19- मुझे कोई फ़र्क नहीं पड़ता लोग मेरे बारे में क्या सोचते हैं… बस मेरा खुदा जनता है, की मैंने कभी किसका बुरा नहीं चाहा।

क्या फर्क पड़ता है हम कैसे हैं

20- कोई खास फर्क नहीं पड़ता अब ख़्वाहिशें अधूरी रहने पर बहुत करीब से कुछ सपनों को टूटते हुये देखा है मैंने।

इन्हे भी पढ़े :-

21- तू नंगा ही तो आया है क्या घंटा ले कर जाएगा वाह साहब वाह क्या शानदार लिरिक्स हैं लिखने वाले ने कमाल कर दिया।

22- बताना तुझे मिल जाए मुझ जैसा कोई और अगर जा-जा तू औरों को आजमा ले मुझे फर्क नहीं पड़ता।

23- हम पर जो गुजरी है तुम क्या सुन पाओगे नाजुक सा दिल रखते हो रोने लग जाओगे।

24- इतना गुरूर किया तूने अपने इस मिट्टी के जिस्म पर तो जा-जा ये तेरा जिस्म किसी और का हो जाए मुझे फर्क नहीं पड़ता।

25- जब भी उनकी गली से गुज़रते हैं मेरी आँखें एक दस्तक दे देती हैं दुःख ये नहीं वो दरवाजा बंद कर देते हैं ख़ुशी ये है कि वो मुझे पहचान लेते हैं।

26- अफ़सोस तो उस वक्त करता हूँ जिस वक्त में तुम्हे याद किया करता था छोड़ के सारे कामो को बस तेरी और सिर्फ तेरी फरियाद किया करता था।

27- ख़ामोशी छुपाती है ऐब और हुनर दोनों शख्सियत का अंदाज़ा गुफ्तगू से होता है।

28- मेरी खामोशी से किसी को कोई फर्क नही पड़ता और शिकायत में दो लफ़्ज कह दूं तो वो चुभ जाते हैं।

29- हमने नाराज़ होकर देखा की एक दिन उन्हें याद आएगी हमारी, और उन्होंने एक दिन कह दिया, जाओ अब ज़रूरत नहीं तुम्हारी।

30- यूँ तो किसी से फ़र्क़ नहीं पड़ता मुझे, पर है एक शख्स किसका आना खलता है मुझे।

Leave a Reply