Navratri Captions For Instagram In Hindi

You are currently viewing Navratri Captions For Instagram In Hindi

इस नवरात्री पूजा पर खुशियों से भरी हो आपकी ज़िन्दगी उजालो से रोशन हो आपकी दुनिया घर पर माँ दुर्गा का आगमन हो ।।

चलो शरण में जगदम्बे की चलते हैं, पनाह देगी वो उनको भी, जो पाप की तपन से जलते हैं।

जब भी मैं बुरे समय से घबराती हूँ, मेरी पहाड़ोवाली माता की आवाज आती है “रुक मैं अभी आती हूँ”।

मैं मैं ना रहा, तू तू ना रहा, सब अपने हो गए, माँ की नज़रों में जो देखा, सब सपने सच हो गए।

माँ की आराधना का ये पर्व हैं, माँ के नौ रूपों की भक्ति का पर्व हैं, बिगड़े काम बनाने का पर्व हैं,भक्ति का दिया दिल में जलाने का पर्व हैं।।

जननी है वो, तो वो ही काली, दर पे उसके ना रहता, किसी का दामन खाली।

रोशनी माँ तेरे प्यार की पल पल महसूस करूं, तुझसे है आस मेरी माँ, तभी तो करम करके धीरज धरूं।

माँ भर्ती झोली खाली, माँ अम्बे वैष्णो वाली, माँ संकट हरने वाली, माँ विपदा मिटाने वाली, मईया ज्योतोवाली तेरी ऊँची है शान, हम तो चाकर मैया तेरे दरबार के, भूखे हैं हम तो मैया बस तेरे प्यार।

मुबारक हो आपको नवरात्री का त्यौहार, सदा खुश रहे आप और आपका परिवार ।

नमो नमो दुर्गे सुख करनी. नमो नमो अम्बे दुःख हरनी.! ।

इस नवरात्री पूजा पर खुशियों से भरी हो आपकी ज़िन्दगी उजालो से रोशन हो आपकी दुनिया घर पर माँ दुर्गा का आगमन हो ।।

शेरों वाली मैया तेरे दरबार में खुशी मिलती है॥ दुःख दर्द मिटाये जाते हैं, जो भी दर पर आते हैं, हाथों में ले के फूलों के हार,तूने दिया प्यार बेशुमार, पूजा करो स्वीकार, खूब सजाया मईया तेरा दरबार.. नवरात्रि की आपको ढेरों शुभ कामनाएं।

जीवन एक आराधना हैं और आराधना ‘शक्ति माँ’ की उपासना से परिपूर्ण हो.. नवरात्री शुभ हो..

लोगों ने कुछ दिया तो सुनाया भी बहुत हैं, हे माँ दुर्गे ! एक तेरा ही दर हैं जहाँ मुझे कभी ताना नहीं मिला।

सजा दरबार हैं और एक ज्योति जगमगाई हैं, नसीब जागेगा उन जागरण करने वालो का, वो देखो मंदिर में मेरी माता मुस्करायी हैं

कभी ना हो दुखों का सामना, पग पग माँ दुर्गा का आशिर्वाद मिले, नवरात्री की आपको ढेरों शुभ कामनाएं। शुभ नवरात्री।

सारी रात माँ के गुण गायें, माँ का ही नाम जपें, माँ में ही खो जाएँ।

अच्छा होता कि माँ के भजनों में वक्त गुजारते, बेहतर होता कि जीवन भर बस माँ को निहारते।

सोचा करता था माँ तेरी कृपा बिना कैसे ज़रूरते होंगी पूरी, तेरा आशीर्वाद मिला जो माँ तो नही रही कोई हसरत अधूरी।

आंबे है वो, जगदम्बे है वो, वो ही सरस्वती और अन्नपुर्णा हैं, उसकी शरण में न जाये बिना, जीवन बस एक तृष्णा हैं..।।।

इन्हे भी पढ़े :-

Leave a Reply