Nafrat Shayari in Hindi

Nafrat Shayari in Hindi
Nafrat Shayari
Nafrat Shayari

1- तुम नफरत करते रहो हम तुम्हे पाने की हसरत करते रहेंगे, तुम जब तक नहीं मानोगे हम तब तक करते रहेंगे।

nafrat ki shayari

2- कहाँ से लाते हो इतनी नफरत मेरे लिए मैं तुम्हारा चाहने वाला हूँ कोई दुश्मन तो नहीं।

nafrat shayari in hindi
nafrat shayari in hindi

3- जाने कैसी ये लोग आदत पाल लेते हैं, मोहोब्बत को पनाह तक नहीं देते और दिल में बेपनाह नफरत पाल लेते हैं।

nafrat wali shayari

4- ना नफरत पाली गई ना मोहोब्बत संभाली गई, अफ़सोस है उस ज़िन्दगी का जो तेरे पीछे खाली गई।

nafrat bhari shayari

5- हमने भी अजीब ज़िद्द पाली है, हमने उसे अपनी चाहत बना लिया जिसने अपने दिल में हमारे लिए बेइन्तेहाँ नफरत पाल ली है।

2 line nafrat shayari

nafrat love shayari
Nafrat Shayari

6- मुझे मोहोब्बत से ज्यादा नफरत पसंद है कम से कम लोग नफरत दिल से तो निभाते हैं।

2 line nafrat shayari

7- नफरत ना हो मानो खुदा हो जैसे हर कोई इसकी इबादत पूरे दिल से करता है।

nafrat hai mujhe khud se shayari

8- बदल जाते हैं वो लोग वक़्त की तरह जिन्हे हद से ज्यादा वक़्त दिया जाता है।

dosti nafrat shayari

9- जब फ़िक्र करता था तो मेरा ज़िक्र भी नहीं करते थे अब नफरत करता हूँ तो तुम्हे मुझसे मोहोब्बत हो गई।

pyar se nafrat
Nafrat Shayari in hindi for whatsapp

10- चाहे मुझसे मोहोब्बत मत कर, मेरी चाहत पर कम से कम मुझसे नफरत तो मत किया कर।

11- मोहोब्बत नहीं करता पर कम से कम मुझे कोसता तो है, याद ना करे भले मुझे पर इसी बहाने कम से कम वो मेरे बारे में सोचता तो है।

12- उसे किसी और की मुझे बस उसकी हसरत है, मुझे उससे बेहद मोहोब्बत है उसे भी मुझसे बेइन्तेहाँ नफरत है।

13- नफरत हो जाएगी तुझे खुद से ही अगर मैंने तुझसे तेरे ही अंदाज़ में बात कर ली।

14- अलग है मिज़ाज हम दोनों के ही हम बस उसे ही देखना चाहते हैं और एक वो है जो हमे देखना भी नहीं चाहते।

shayari on nafrat mohabbat

15- बदला नहीं लूँगा बस बदल जाऊंगा, नज़र नदाज़ कर दूंगा तुझे जब भी नज़र आऊंगा।

16- हमने उन्हें पाने की हसरत कर ली, हमने उनसे मोहोब्बत कर ली है उन्होंने हमसे नफरत कर ली है।

nafrat wali shayari

17- मतलबी ज़माना नफरतों का कहर है, ये दुनिया दिखती शहद है पिलाती ज़हर है।

18- दिल टूट जाता है तेरी नफरत देख कर, फिर सोचता हूँ अब दिल तेरे नाम कर दिया है तेरी मर्ज़ी।

19- तुम नफरत का धरना कयामत तक जारी रखो, मैं प्यार का इस्तीफा जिंदगी भर नहीं दूंगा।

hate shayari

20- तेरी नफरत देख कर भी मुझे प्यार आता है तुझ पर, मैं पागल हो गया हूँ या कोई साया सवार हो गया है मुझ पर।

इन्हे भी पढ़े :-

21- तुझ से मोहोब्बत कर के मुझे खुद से नफरत हो गई है।

22- किस्मत का लिखा एक अजीब इम्तेहान है, मुझे उससे मोहोब्बत और उसे मुझसे नफरत बेइन्तेहाँ है।

23- मुँह पर हंसी दिल में नफरत पाल लेते है, दोस्ती छोड़ो ऐसा करते हैं सांप पाल लेते है।

24- वो दुश्मन बन कर मुझे जीतने निकले थे मोहोब्बत कर लेते तो खुद को उनके हवाले कर देता।

25- नफरत करने वालों से मोहोब्बत है मुझे क्यूंकि वो चाहत का मुझसे झूठा दिखावा नहीं करते।

26- शुक्र कर अभी तुमने सिर्फ मोहोब्बत देखी है मेरी नफरत देख लोगे तो कहीं मुँह दिखाने के लायक नहीं रहोगे।

27- कड़वाहट मिली होती है आज कल की मिठाइयों में, जलन दिखती है आज कल बधाइयों में।

28- गुजरे हैं इश्क़ में हम इस मुकाम से नफरत सी हो गई है मोहब्बत के नाम से हम वो नहीं जो मोहब्बत में रो कर के जिंदगी को गुजार दे, अगर परछाई भी तेरी नजर आ जाए तो उसे भी ठोकर मार दें।

29- मुझे नफ़रत सी हो गयी है अपनी जिन्दगी से और तू ज्यादा खुश ना हो, क्योंकि तू ही मेरी जिन्दगी है।।

30- नफरत करता हूँ में उन लोगो से जो अपने मतलब के लिए लोगो के जज़्बातों के साथ खेलते है।

31- ये दुनिया नफरत की बनी है जनाब यहाँ मोहोब्बत करने वालों को पागल कहा जाता है।

32- एक बात कहना चाहता हूँ मैं तुझे कब से, तुझसे मोहोब्बत के बाद नफरत हो गई मुझे मोहोब्बत लफ्ज़ से।

33- काश की इस दिल पर अपना अख्तियार होता, ना मोहोब्बत होती ना किसी से प्यार होता।

Leave a Reply