25 Best Gile Shikve Shayari

25 Best Gile Shikve Shayari
Shikve Shayari
Shikve Shayari

1- जब से हम मिले है, तुमसे सिर्फ शिकवे और गीले मिले है।

गिला शिकवा स्टेटस
गिला शिकवा स्टेटस

2- बुलाया हर वक़्त मगर कभी आया ही नहीं, शिकवे क्या करें गैरों से हम जब अपनों ने ही कभी अपनाया ही नहीं।

जिंदगी से शिकायत शायरी

3- शिकवे तो सभी को है जिंदगी से साहब, पर जो मौज में जीना जानते है वो शिकायत नहीं करते।

gile Shikve Shayari
gile Shikve Shayari

4- कभी गीले-शिकवे भुला कर आओ तो सही देखो हम तुम्हे कितना याद करते हैं।

शिकवा नहीं किसी से शायरी

5- ऐसा नहीं की हमे तुझसे कोई शिकायत नहीं है, बस तेरी तरह कमियां गिनना हमारी आदत नहीं है।

6- कभी चैन से जीने ही नहीं देती ना जाने इस ज़िन्दगी को हमसे क्या शिकवे हैं।

7- गीले भी तुझसे बहुत है मगर मोहोब्बत भी, वो बात अपनी जगह है ये बात अपनी जगह।

8- खुद ही को सजा दे कर खुद ही को फ़रियाद करता हूँ, कभी-कभी नहीं मैं तुझे हर पल याद करता हूँ।

9- इंसान की फितरत ही कुछ ऐसी है वो खुदा की इबादत कम शिकायत ज्यादा करता है।

gile shikwe dosti shayari

10- कोई साफ़ सुथरा नहीं सभी में मिलावट है, सारे ज़माने को सारे ज़माने से शिकायत है।

11- खुद तक रखते तुझे बताया ही क्यों, शिकवा ये खुद से है तुझे चाहा ही क्यों।

12- गिनती करूँ तो शिकायतें तुझसे लाखों मैं है, तू फिर भी मेरे दिल में है मेरी रूह में है मेरी आँखों में है।

13- रिश्ते खुद ब खुद खूबसूरत बन जाएंगे, जब लोग एक दूसरे को समझाने की बजाय एक दूसरे को समझने लग जाएंगे।

14- शिकवे जिलों को मिटा कर दिल के दरवाज़े को खुला कर लो, नाराज़गी में रखा क्या है आओ सुलह कर लो।

वेटिंग शायरी

15- सब नज़रअंदाज़ करते हैं कोई अपना नहीं दखता है, मुझे गीले तो बहुत मिले हैं पर ना कोई शिकवा है।

16- बड़ा मज़ा हो जो महशर में हम करें शिकवा, वो मिन्नतों से कहें चुप रहो ख़ुदा के लिए।

17- बड़ी मुश्किलों के बाद मिली थी तू, अब इतनी आसानी से भुलाना आसान तो नहीं होगा।

18- अगर वो पूछ ले हमसे किस बात का गम है, तो फिर किस बात का गम है अगर वो पूछले मुझसे।

19- इस दिल को सुकून से जीने की मोहलत मिल जाए, की तेरे शिकवे दूर हो जाएं और तेरी मोहोब्बत मिल जाए।

20- शिकवों को भी तुम्हारे दूर कर देंगे सनम, ज़रा एक दफा नज़दीक आओ तो सही।

21- इस ज़माने को सारे ज़माने से शिकवा है, इन्होने खुदा को नहीं छोड़ा तो तुम्हे क्या छोड़ेंगे।

22- नींद को आज भी शिकवा है आँखों से, मैंने आने ना दिया उसे तेरी यादों से पहले।

23- रख दूंगा खुद को तेरे सामने बदल कर के, तू आ तो कभी मिलने शिकवों को अलग रख के।

24- इश्क़ है तो शिकायत ना कीजिए, और शिकवे हैं तो मोहब्बत ना कीजिए।

25- दो पल की भी ख़बर नही तेरी ऐ मेरी जिंदगी, फिर भी दर्द,शिकवे,ओर गम हज़ार रखती है ऐ जिंदगी।

इन्हे भी पढ़े :-

Leave a Reply