30 Very Deep Dooriyan Shayari

You are currently viewing 30 Very Deep Dooriyan Shayari
Dooriyan Shayari
Dooriyan Shayari

1- दूर है सारे मेरे नज़दीकी मुझसे, पराए फिर भी पास आ कर हाथ मिला लेते हैं।

2 line shayari on dooriyan

2- दूरियाँ जब बढ़ी तो, गलतफहमियां भी बढ़ गयी, फिर तुमने वो भी सुना, जो मैंने कहा ही नही।

yeh dooriyan shayari

3- एक बात कहूँ थोड़ी कड़वी है, दूरी दूर होने से नहीं सहने से बढ़ती है।

duriya shayari in hindi

4- मैं हंस रहा हूँ इसका मतलब मैं ठीक तो नहीं, दो लोग जो क़रीब बैठे है इसका मतलब वो दोनों नज़दीक तो नहीं।

duriya status in hindi

5- दिल भर गया समंदर सूख गया, इस दूरी के दरिया में तेरा मेरा रिश्ता डूब गया।

pyar mein dooriyan shayari
pyar mein dooriyan shayari

6- बीमार तू है तो फिर दवा मुझे क्यों, दूर जाने की गलती तेरी थी फिर आखिर सजा मुझे क्यों।

dooriyan quotes in hindi

7- समझ जा दूरियां कितनी बढ़ गई है हमारे बीच, की अब ये गलतफहमियां हमारे बीच आ गई है।

dooriyan shayari images

8- जानता हूँ तेरे बिन संभल तो नहीं पाऊँगा, पर तुझसे इतना दूर चला जाऊंगा की फिर नज़र नहीं आऊंगा।

door jane ki shayari

9- सबूतों की ज़रुरत पड़ रही है, यानी रिश्तों में दूरी बढ़ रही है।

door shayar

10- नज़दीकी लोगों में नफरत ही नफरत की दिखती है, ये प्यार कम्बख्त दूर दूर तक नज़र नहीं आता।

11- तुझे क्या बुरा कहूँ मैं खुद बदनसीब हूँ, तुझसे दूर हो कर देख मैं अब मौत के क़रीब हूँ।

12- अपना एक दिल से चाहने वाला खो कर, अब तो खुश है ना तू मुझसे दूर हो कर।

13- वाह गज़ब का केहर बनाया है, नज़दीकियों का घर तोड़ कर उन्होंने दूरियों का महल बनाया है।

14- लेना देना मेरा अब किसी महफ़िल से नहीं, तू बस मेरी नज़र से दूर है दिल से सही।

dur jane wali shayari
Dooriyan Shayari

15- खुदा का घर ना मिला पर इबादत ना छूटी, तेरा हाथ छूट गया पर तेरी आदत ना छूटी।

16- मुझे अपनी मजबूरी बता कर, खुश हो ना तुम अब ये दूरी बना कर।

17- हम भी देख लेंगे जा मेरे दूर जाने के बाद कौन तेरे इतने क़रीब आएगा।

18- तू नहीं आता पर तेरे ख़्वाब आते है, सोचता हूँ क्या हम भी कभी तुझे याद आते हैं।

19- चला जायेगा वक़्त ये भी जैसे तुम चले गए हो, दूरियों का दर्द सह नहीं पाओगे देखना लौटकर वापस चले आओगे।

20- अभी नहीं पर ज़रूर कुछ समय बाद आऊंगा, जैसे तुम आती हो मुझे मैं भी तुम्हे याद आऊंगा।

इन्हे भी पढ़े :-

21- जुदाई दूरियों से नहीं मन के मतभेद से होती है, जिंदगी अच्छे पैसे से रिश्तो में प्यार बरकरार रखकर जी जाती है।

22- जब संग बैठना ही नहीं था तो फिर आया ही क्यों, दूर ही जाना था तो क़रीब बुलाया ही क्यों।

23- दूरियों का ग़म नहीं, अगर फ़ासले दिल में न हो, नज़दीकियां बेकार है, अगर जगह दिल में ना हो,

24- ये जो फासले हैं, देख ले सब तेरे ही फैसले हैं।

25- देख कितनी बदनसीब हूँ मैं, तुझसे दूर हो कर दूरियों के क़रीब हूँ मैं।

26- वजह गलतफहमियां थी जिसकी वजह से तू दूर हो गई, यही समझने में काफी देर हो गई।

27- दूरियां इतनी बढ़ गई है की खाई हो गई है, ना जिया जाए ना मरा जाए कुछ ऐसी तबाही हो गई है।

28- पास थे पर क़रीब नहीं थे, एक दुसरे के हो पाते ऐसे नसीब नहीं थे।

29- मुझसे खुद उसने दूरी बना रखी है, अपने करीबियों को गलती मेरी बता रखी है।

30- बहुत खुशनसीब हूँ मैं, दुनिया से दूर तेरे क़रीब हूँ मैं।

Leave a Reply