25 Best Bulleh Shah Shayari

25 Best Bulleh Shah Shayari

तुम सुनो हमारी बैना, मोहे रात दिने नहीं चैना, हुन पी बिन पलक ना सरीए । अब लगन लगी किह करीए ?

इह अगन बिरहों दी जारी, कोई हमरी प्रीत निवारी, बिन दरशन कैसे तरीए ? अब लगन लगी किह करीए ?

बुल्ल्हे पई मुसीबत भारी, कोई करो हमारी कारी, इक अजेहे दुक्ख कैसे जरीए ? अब लगन लगी किह करीए?

ना हम हिन्दू ना तुर्क ज़रूरी, नाम इश्क दी है मनज़ूरी, आशक ने वर जीता, ऐसा जग्या ज्ञान पलीता।

वेखो ठग्गां शोर मचाइआ, जंमना मरना चा बणाइआ। मूर्ख भुल्ले रौला पाइआ, जिस नूं आशक ज़ाहर कीता, ऐसा जग्या ज्ञान पलीता ।

आओ फकीरो मेले चलीए, आरफ का सुण वाजा रे। अनहद शब्द सुणो बहु रंगी, तजीए भेख प्याज़ा रे। अनहद वाजा सरब मिलापी, नित्त वैरी सिरनाजा रे। मेरे बाज्झों मेला औतर, रूढ़ ग्या मूल व्याजा रे। करन फकीरी रस्ता आशक, कायम करो मन बाजा रे। बन्दा रब्ब भ्यों इक्क मगर सुक्ख, बुल्ला पड़ा जहान बराजा रे।

सस्सी दा दिल लुट्टण कारन, होत पुनूँ बण आया ए। इक नुकता यार पढ़ाया ए।

मैना मालन रोंदी पकड़ी, बिरहों पकड़ी करके तकड़ी, इक मरना दूजी जग्ग दी फक्कड़ी, हुन कौन बन्ना बण आइयो रे ; अब क्यों साजन चिर लाययो रे

सस्सी दा दिल लुट्टण कारन, होत पुनूँ बण आया ए। इक नुकता यार पढ़ाया ए।

ऐन गैन दी हिक्का सूरत, हिक्क नुकते शोर मचाया ए। इक नुकता यार पढ़ाया ए।

नमाज़ रोज़ा ओहनां की करना, जिन्हां प्रेम सुराही लुट्टी कुड़े, मैनूं दस्सो पिया दा देस ।

बुल्ल्हा शौह दी मजलस बह के, सभ करनी मेरी छुट्टी कुड़े , मैनूं दस्सो पिया दा देस ।

अब लगन लगी किह करिए अब लगन लगी किह करिए ? ना जी सकीए ते ना मरीए ।

जिस तरह चाहे नचाले तेरे इशारो पे ऐ मालिक मुझे तेरे ही लिखे हुए अफ़साने की किरदार हु मै।

जिसे “मै” की हवा लगी उसे फिर ना दवा लगी न दुआ।

ज़हर वैख के पीता ते के पीता? इश्क़ सोच के कीता ते के कीता? दिल दे के, दिल लेन दी आस रखी? प्यार इहो जिया कीता, ते के कीता।

रांझा रांझा करदी नी मैं आपे रांझा होई रांझा मैं विच, मैं रांझे विच, होर खयाल न कोई नी मैं कमली हां।

कोई हिर कोई रांझा बना है, इश्क़ वे विच बुल्लेशाह हर कोई फरीर क्यों बना है।

ना मस्जिद में ना मंदिर मे, ढूंढ अपने यार को अपने अंदर मे।

मनतक मअने कन्नज़ कदूरी, मैं पढ़ पढ़ इलम वगुच्ची कुड़े, मैनूं दस्सो पिया दा देस।

उसदे नाल यारी कदी ना रखियो, जिसनु अपने ते गुरूर होवे, माँ बाप नू बुरा न आखियो, चाहे लख ऊना दा कुसूर होवे, राह चलदे नू दिल न देइयो, चाहे लख चेहरे ते नूर होवे, ओ बुलेया दोस्ती सिर्फ उथे करियो, जिथे दोस्ती निभावन दा दस्तूर होवे।

बुल्ले नूं समझावण आइयां भैणां ते भरजाइयां मन लै बुल्लया, साडा कहना छड़ दे पल्ला राइयां आल नबी, औलाद अली नूं तूं क्यों लीकां लाइयां?

ऐसी आई मन में काई, दुख सुख सभ वंजाययो रे, हार शिंगार को आग लगाउं, घट उप्पर ढांड मचाययो रे ; अब क्यों साजन चिर लाययो रे ?

बुल्ल्हा कसर नाम कसूर है, ओथे मूंहों ना सकन बोल । ओथे सच्चे गरदन मारीए, ओथे झूठे करन कलोल।

आओ सईयो रल दियो नी वधाई आयो सईयो रल दियो नी वधाई । मैं वर पाइआ रांझा माही। – Bulleh Shah

इन्हे भी पढ़े :-

Leave a Reply