40 Beautiful Face Shayari

You are currently viewing 40 Beautiful Face Shayari
 Face Shayari
Face Shayari

1- चेहरा ये चाँद सा जो मेरी अँधेरी ज़िन्दगी में आ जाए, ये ज़िन्दगी सितारों से भरी खूबसूरत शाम हो जाए।

shayari on beautiful face
shayari on beautiful face

2- एक तू अकेला चाँद है सनम इस आसमानी दुनिया में बाकी सब तो तारें है।

shayari on face

3- हम कितना चाहते है तुम्हे चाहो तो तुम चाँद से पूछ सकती हो, तुम्हे चाँद से खूबसूरत समझते हैं चाहो तो तुम चाँद से पूछ सकती हो।

shayari on face in hindi

4- तेरी ज़ुल्फ़ों से फिसल कर रात हो जाती है तेरी मुस्कराहट पर चढ़ सवेरा होता है, बालियां तेरी तारों से चमकती है जब भी देखो चाँद सा चेहरा तेरा होता है।

tareef shayari on face
Fantastic Face Shayari

5- चाँद भी तुझे देख बादलों के पीछे छुप जाने को मचलता होगा, तू इतनी खूबसूरत है सनम की चाँद भी तुझे देख खूब जलता होगा।

shayari on her beauty

6- तुझे देखता हूँ तो ये समझ नहीं आता की मैं आसमान में हूँ या फिर चाँद ज़मीन पर उतर आया है।

beautiful girl shayari in hindi

7- उसके चेहरे की चमक के सामने सादा लगा, आसमान पे चाँद पूरा था मगर आधा लगा।

beautiful shayari for beautiful girl

8- ना चाँद चाहिए ना फलक चाहिए, सनम हमे बस तेरी एक झलक चाहिए।

shayari on looks
Face Shayari in hindi

9- क्या करूँ तेरी तुलना चाँद से उसमे दाग है और तुझमे एक कमी तक नहीं।

beautiful shayari

10- चेहरे पर तेरे अब हम क्या ही कहें ना शब्द बाकी रहे ना हम।

11- कुछ मर मिटते है उनकी एक आहट पर, बाकी जो बच जाते हैं वो मर जाते हैं उनकी मुस्कराहट पर।

12- चौखट पर तेरी नज़रें गढ़ाए रखते है सभी जानते है जो तू बहार आएगी तो बाहार आएगी।

13- आँखे तेरी काली है काले बादल सा, जो एक झलक तू देख ले तो कर दे हर इंसान को पागल सा।

14- शाम सितारों सी खूबसूरत हो जाती है जब तेरा चाँद सा चेहरा महफ़िल में नज़र आता है।

beautiful tareef shayari in hindi
Face Shayari

15- होंठो पे अपने यूँ ना रखा करो तुम नादान कलम को, वरना नज़्म फिर नशीली होकर लड़खड़ाती रहेगी।

16- तेरे हुस्न के दीवानों की कमी नहीं इस शहर में, अब तुझसे ज्यादा खूबसूरत कुछ है भी तो नहीं इस शहर में।

17- अब क्या तारीफ करें तेरे चेहरे की हम तेरी मुस्कराहट से नज़र हटे तब जा कर तो नज़र पड़े चेहरे पर।

18- यूँ ही नहीं किया करता मैं नाराज़ तुम्हे अक्सर की नाराज़गी में तुम और भी हसीं लगती हो।

19- सरक गया जब उसके रुख से पर्दा अचानक फ़रिश्ते भी कहने लगे काश हम इंसान होते।

chehre ki shayari

20- अजीब इत्तेफ़ाक हुआ ये ज़िन्दगी में हमारी तुम्हारे चेहरे से नूर नहीं हटता और हमारी नज़रें तुम्हारे चेहरे से नहीं हटती।

इन्हे भी पढ़े :-

21- तुम्हारा खूबसूरत चेहरा जो हमे ख़्वाब में नज़र आ गया अब समझ नहीं पा रहे की ख़्वाब ज्यादा खूबसूरत था की तुम।

22- अजब सा अदब है तेरी अदा में भी, तुझे अलग ही बनाया है खुदा ने भी।

23- रुके तो चाँद चले तो हवाओं जैसा है, वो शख्स धूप में भी छाव जैसा है।

24- तुझ पर मरने वाले तुझे लाख मिले होंगे पर तेरी वजह से जीने वाला आशिक़ हमारे सिवाय कोई और ना होगा।

सुंदर चेहरे पर शायरी
Face Shayari

25- तेरा चेहरा देख बेज़ुबान हो जाता हूँ कुछ कहने लायक तो अब मैं रहा ही नहीं।

26- जानता हूँ जान की तू जानती नहीं मैं तुझे कितना चाहता हूँ, बस इतना समझ ले तेरा चेहरा देखे बिन सूरज तो निकलता है पर मेरी सुबह नहीं होती।

27- यकीनन खुदा ने तुझे फुर्सत में बनाया होगा ये सोच कर की आगे चल कर तू मेरा खुदा बनने वाला है।

28- नींद से क्या शिकवा जो आती नहीं रात भर, कसूर तो उस चेहरे का है जो सोने नहीं देता।

29- इन पत्थर हुई आँखों को जो तेरा चेहरा नज़र आ जाए, इन बेसब्र हुई धड़कनों को कहीं फिर सब्र आ जाए।

30- अब क्या कहूँ तेरी तारीफ में तेरे नाम से जो किसी को पुकार लू तो वो उसे तारीफ समझ लेता है।

31- यकीनन तुझ सा खूबसूरत कोई और ना होगा, तुझे याद ना करे कोई खूबसूरती के लिए ऐसा कोई दौर नहीं होगा।

32-मैं अपने साज़ के नग्मों की नर्म लहरों में तुम्हारे चेहरे की अफ़्सुर्दगी डुबोता हूँ। – नरेश कुमार शाद

33- तारीफ जो लिखी अल्फ़ाज़ों में तेरे लिए अल्फ़ाज़ों ने कहा हम इतने काबिल नहीं जो तारीफ लिख सके तेरे लिए।

34- सब खूबसूरत रहे जिस साल वो साल हो तुम, तुम मिसाल नहीं बेमिसाल हो तुम।

35- हुस्न वालों को सँवारने की ज़रुरत क्या है ? वो तो सादगी में भी क़यामत की अदा रखते हैं।

36- तेरा चेहरा जो हर सुबह नज़र आ जाएगा, मेरी हर शाम सुहानी हो जाएगी मेरा हर दिन बन जाएगा।

37- बखूबी काबू कर ले हर शख्स को तुम्हारे चेहरे में वो खूबी है, मैं तो खुद वश में हूँ तुम्हारे पर तुम्हारा नहीं हूँ ये मेरी मजबूरी है।

38- अंदाज़ उसका जो एक बार नज़र उठा कर देख लो तुम, वादा रहा की उसे कभी नज़रअंदाज़ नहीं कर पाओगे।

39- उसके हुस्न का आलम मत पूछिए बस इतना जान लीजिए की तस्वीर हो गया हूँ उसकी तस्वीर देख कर।

40- मासूम चेहरा उसका दिमाग चालाकियों से भरा था उसे देख कर ना चुप रहा जाता ना कुछ कहा जाता मुझसे और ये सब उसका किया धरा था।

इन्हे भी पढ़े :-

Leave a Reply