मधुर सुविचार

You are currently viewing मधुर सुविचार
मधुर सुविचार
मधुर सुविचार

याद रखिये आपके मीठे बोल वचन किसी हारे हुए व्यक्ति में फिर से जीतने की चाह ला सकते हैं।

स्कूल सुविचार

हमेशा खुद को सकारात्मक रखिये यह आपके लक्ष्य प्राप्ति के लिए बेहद जरुरी हैं।

बहाने वो लोग बनाते हैं जिनके अंदर सफलता की भूख नहीं होती।

अगर आप किसी के लिए अच्छा नहीं कर सकते तो आपको कोई अधिकार नहीं हैं की आप उसके लिए कुछ बुरा करे।

मुसीबत से घबराने वाले लोग अक्सर जिंदगी में पीछे रह जाते है।

सपने देखने से ज्यादा सपने साकार करने पर कार्य कीजिये।

जरुरी नहीं की हर जगह हर व्यक्ति को जवाब देना जरुरी हैं, कभी-कभी यह काम हमें वक्त पर भी छोड़ देना चाहिए।

उन लोगो से दूर रहना ही बेहतर होता हैं जो नकारात्मक विचारो के साथ अपना जीवन व्यतीत कर रहे है।

अपनी गलती को स्वीकारना सीखिए इससे आप जीवन में कई बुलंदियों को छुएंगे।

कभी-कभी झूठ बोलना भी अच्छा होता हैं अगर उससे किसी का भला हो रहा हो।

बुरा वक़्त हमारी जिंदगी को बिगाड़ने के लिए नहीं बल्कि जिंदगी में कुछ सिखाने के लिए आता हैं।

दूसरो की बुराइयां करने से अच्छा हैं की आप अपने अंदर की बुराई को सुधारे।

जिन्हे खुद पर विश्वाश होता हैं उनका ही इस दुनिया में नाम होता हैं।

दोस्ती उस इंसान से करियेगा जो आपके सुख में ना सही लेकिन आपके दुःख में जरूर साथ खड़ा हो।

अपने जीवन में एक लक्ष्य ऐसा जरूर चुनो जिसे पूरा करने के लिए आपके पास एक पल का भी खाली समय ना हो।

आपकी जिन्दगी बहुत ही अनमोल और सुन्दर है, इसे फालतू और बेकार बातों में नहीं गवाएं।

व्यक्ति को अपने जीवन परछाई और आईने के जैसे दोस्त बनाने चाहिए, क्योंकि परछाई कभी साथ नहीं छोड़ती और आईना कभी झूठ नहीं बोलता।

व्यक्ति को कभी भी मौके का इंतजार नहीं करना चाहिए। क्योंकि जो आज है वो ही सबसे बड़ा मौका हैं।

जिन्दगी का हर एक छोटा हिस्सा ही हमारी जिदंगी की सफ़लता का बड़ा हिस्सा होता है।

सफ़ल व्यक्ति अपने लिए हुए फ़ैसले से दुनिया बदलने की ताकत रखते हैं और असफ़ल व्यक्ति दुनिया के दर से अपने ही फ़ैसले बदल देते हैं।

मधुर वाणी बोलना एक महंगा शौक है जो हर किसी के बस की बात नहीं।

जब आपको लोग पूछे कि आप क्या काम करते हैं तो वो लोग वास्तव में आपको इतनी इज्जत देनी है, इसका अन्दाजा लगाते है।

शुरुआत करने का तरीका है, कि बातें बंद करें और काम शुरू करें।

also read:-

किसी भी व्यक्ति को ये नहीं सोचना चाहिए कि वो अपनी जिन्दगी में कितना ख़ुश है, बल्कि ये सोचना चाहिए कि उसकी वजह से कितने लोग ख़ुश है।

अच्छे लोग , अच्छी किताब की भांति होते हैं , जिन्हें समझने के लिए पढ़ना पड़ता है।

आपकी जिन्दगी का हर एक दिन अच्छा हो ये कोई जरूरी नहीं है, लेकिन हर दिन हमेशा से बेहतर हो ये जरूरी है।

भाग्य तभी साथ देता है जब मेहनत और लगन का सहारा हो।

यदि आपको पहली बार में सफलता नहीं मिली, तो दुबारा से कड़ी मेहनत शुरू कीजिये

किसी भी मांगने वाले को अपने दर पर ज़लील मत करना, वो सिर्फ मांगने ही नहीं दुआ देने भी आता है

हमेशा दूसरों की सफ़लता पर ध्यान देने से बेहतर है, अपनी सफ़लता पर ध्यान देकर उनसे भी बेहतर बन जाना।

Leave a Reply